श्रेणी के हिसाब से फ़िल्टर करें 'Reputation' containing 64 Posts

साइबर बदमाशी की वजह से आत्महत्या हुई

10 अक्टूबर 2012 को कनाडा की लड़की अमांडा टोड ने साइबर बदमाशी और उत्पीड़न के वर्षों के बाद आत्महत्या कर ली। जूडिथ ब्रुह्न एक चौंकाने वाले मामले की बारे में बताती है।

क्या एक कातिल के पास हक है कि उसे लोग भूल जाये?

2008 में दो दोषी पाए गए हत्यारों ने जर्मन कानून के अनुसार विकिपीडिया और अन्य ऑनलाइन मीडिया के आउटलेट से अपने नाम हटाए जाने की मांग की। क्या व्यक्ति का हक कि उसे लोग भूल जाये जनता के जानने के अधिकार पर प्राथमिकता लेता है?

What's missing?

Is there a vital area we have not addressed? A principle 11? An illuminating case study? Read other people’s suggestions and add your own here. Or start the debate in your own language.

भाग लें