02हिंसा

हम न हिंसा की धमकी देते है ना ही उसे स्वीकार करते है

आपकी सीमा क्या है?

नागरिक और राजनीतिक अधिकारों पर अंतर्राष्ट्रीय प्रसंविदा के अनुच्छेद 20 का कहना है कि ष्राष्ट्रीय, जातीय या धार्मिक घृणा की कोई भी वकालत जो भेदभाव, दुश्मनी, या हिंसा को शह निर्मित करती हैष्, का राज्य को निषेध करना चाहिए। यह निर्वाचन के लिए बड़ी गुंजाइश छोड़ता है। संयुक्त राज्य अमेरिका हिंसा की शह के लिए एक उच्च रोधक नियत किया है। जो “ब्राडेनबर्ग टेस्ट” (ब्रांडेनबर्ग वी. ओहियो के उच्चतम न्यायालय के मामले के बाद) के नाम से जाना जाता है, जिसमें हिंसा का इरादा, संभावना और लिप्त होना है। अन्य परिपक्व उदार लोकतंत्र कम रोधक नियत करते हैं, जिसमें हिंसा की अधिक सामान्यीकृत खतरों और अभिव्यक्ति का प्रकार दोनों अपराधीकरण जो घृणा या शत्रुता को उत्तेजित करता है।

स्वतंत्र अभिव्यक्ति सहित बाकी सब कुछ, बहुत अधिक संदर्भ और लहजे पर निर्भर करता है। अंग्रेजी उदार विचारक जॉन स्टुअर्ट मिल मशहूर तर्क देते हैं कि हमें अखबार में यह लेख प्रकाशित करने के लिए स्वतंत्रता मिलनी चाहिए कि मकई व्यापारी गरीबी के कारण भूखा है लेकिन यही संदेश मकई व्यापारी के घर के सामने इकट्ठा हुई उत्तेजित भीड़ को देने के लिए स्वतंत्र नहीं है। (आज हम निवेशकर्ता बैंकर कह सकते हैं।) जब ब्रिटेन के गार्जियन अखबार के पाठकों ने मुख्य पृष्ठ के शीर्ष पर देखा ष्चार्ली ब्रोकर: शमौन कोवेल को मार डाला और फ्रेन्च रोल्स बांटेष्, वे इसे हत्या की शह के रूप में नहीं पढ़ेंगे क्योंकि वे जानते हैं कि यह एक मजाक है। जब लीबिया के तानाशाह मुअम्मर गद्दाफी को बेंघाजी के शहर के माध्यम से जाने की धमकी दी “गली-गली”, “कोई दया नहीं” दिखाने की धमकी दी है, सब जानते थे कि यह मजाक नहीं था।

हिंसा भड़काने वाले भाषण का एक चरम मामला है रवांडा में रेडियो टेलीविजन लिबरे देस माइली कोलिंस, जिसने वायुतरंगों पर तिलचट्टों के विनाश के लिए  बार-बार “अंतिम युद्ध” के लिए आह्वान द्वारा हुटास हत्यारे गिरोहों को लगभग 800,000  टूटसिस (और उदारवादी हुटास )  की हत्या के लिए प्रोत्साहित किया था। इस पर भी अगर आप सोचते हैं कि अमेरिकी की पहले संशोधन की परंपरा में, हमें  सिद्धांत में अन्य समूहों के लोगों का वर्णन करने के लिए “तिलचट्टे” शब्द का प्रयोग करने के लिए स्वतंत्र हैं [¬P4,ए , आप अभी भी निष्कर्ष निकालेंगे कि यह बंद कर दिया गया होगा। हिंसा का इरादा, संभावना और आसन्न था। अन्य उदाहरण है? CS-J-p~ अकेसू,

प्रसंग का यह भी मतलब है कि: आपके पास वे मुक्त, विविध माध्यम है जिनकी बात हमने पृ.3 में की थी? भड़काऊ, नफरत की सरगर्मी भरे भाषण का अन्य प्रभावशाली माध्यमों में और अधिक तथा बेहतर भाषण से सामना हो सकता है। निर्वाचित तानाशाह स्लोबोदान मिलोसेविक के तहत सर्बिया के पाशविकता को समझाने की कोशिश करते हुए एक पर्यवेक्षक ने टिप्पणी की, ष्कल्पना करें कि अगर क्लू क्लक्स क्लान द्वारा अमेरिका के सभी प्रमुख टेलीविजन चैनलों को पिछले पांच वर्षों के लिए ले लिया जाताष्। सुसान  बेनेश्च, कब नफरत भरा भाषण “खतरनाक” भाषण जैसा कि वह कहती हैं, बन जाता है, के निर्धारण के लिए पांच भाग परीक्षण विकसित कर रही हैं। भाषण का अर्थ शायद हिंसा को बढ़ावा देंगे। ख्सुसान बेनेश्च से लिंक के लिए इंतजार में हैं,

संयोग से, हम यहाँ मुख्य रूप से व्यक्तियों और समूहों द्वारा हिंसा के बारे में बात कर रहे हैं, राज्यों के बारे में नहीं। हालांकि नियम के अनुच्छेद 20 सीधे तौर पर यह भी कहता है कि, युद्ध के लिए कोई प्रचार कानून द्वारा निषिद्ध किया जाएगा, बहुत थोड़े देशों में अपने स्वयं के नेताओं द्वारा युद्ध में जाने के लिए प्रचार के मामले को रोकने का कानून है (हालांकि कुछ के पास नियम हैं कि उन्हें इसे कैसे लेना चाहिए)।

हत्यारे के वीटो के विरुद्ध

अन्य सिद्धांतों की तरह, इसको भी विधि पूर्वक परिभाषित नहीं किया गया है कि  कानून क्या प्रतिबंध करेगा क्या नहीं। यह हमारे अपने आचरण गाइड जो हम स्वयं को देते हैं। इसके दो भाग हैं: हम हिंसा की धमकी नहीं देंगे। 2. हम हिंसक धमकी की अनुमति नहीं देंगे, स्वीकार या पनपने नहीं देंगे। ये एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। यदि आप हिंसा के एक खतरे को पनपने देते हैं, तो आप दूसरे को प्रोत्साहित करते हैं। ग्रुप ठ, जो यह प्रबलता से मानता  है किलर को ऐसा या नहीं कहना या चित्रित करना चाहिए, स्वयं ही कहेगा, आह, ग्रुप । ने ग् की हिंसा की धमकी बंद करवा दी, हमें वैसा ही करना चाहिए।

मुक्त भाषण पर साहित्य में हेकलर के वीटो की पुराने जमाने की अवधारणाएं शामिल हैं। यदि एक बैठक में हेकलर को बहुत जोर से और लंबे समय चिल्लाने की अनुमति दी जाती , वे वक्ता के बोलने के अधिकार से इनकार कर देते । इन दिनों, हमें और अधिक हत्यारे के वीटो देखने को मिलते हैं। व्यक्ति या समूह यह सरल संदेश भेजते हैं: अगर तुमने ऐसा कहा तो हम तुम्हें मार डालेंगे। कभी-कभी वे अपना वादा पूरा भी करते हैं। दुनिया भर में सैकड़ों महिलाओं और पुरुषों की बस उनकी कही गयी बातों के लिए हत्या कर दी जाती है – माफिया के बारे में लिखने वाले लेखक, कई धर्मों और सरकारों के आलोचक और व्यंगकार, असंतुष्ट, कार्टूनिस्ट, प्रकाशक, उपन्यासकार और खोजी पत्रकार। कई और लोग हत्यारे वीटो के कई प्रकारों में से एक से डरते हैं।

धमकी और तुष्टीकरण

इस सिद्धांत के दोनों पक्षों का वजन बराबर है। हमारा हिंसा की धमकी को पनपने से बचाने के साथ उसका विरोध करने का कर्तव्य अधिक है। इस संबंध में,  कई तथाकथित मुक्त देश हाल के वर्षों में बहुत बुरी तरह से पेश आए हैं। बार-बार, वे हिंसा के स्पष्ट या अस्पष्ट खतरों से संतुष्ट हैं – कभी धर्म के लिए “सम्मान“ [¬P7,, “समुदाय सामंजस्य“,  सार्वजनिक आदेश” या “बहुसंस्कृतिवाद” के नाम पर – उन्हें कानून के सभी शक्ति और एक संयुक्त समाज के दृढ़ संकल्प के साथ मुकाबला करने की बजाय।

गलत तुष्टीकरण की ज्यादा पूरानी नहीं, का एक उत्कृष्ट उदाहरण मेरे अमेरिकी प्रकाशक, येल यूनिवर्सिटी प्रेस द्वारा प्रस्तुत किया गया था। येल मुहम्मद के डेनिश कार्टून के बारे में प्रोफेसर ज्यत्ती क्लाउसेन द्वारा द कार्टून देट शोक द वर्ल्ड नामक एक बहुत गंभीर विद्वत्तापूर्ण पुस्तक प्रकाशित करने जा रहा था। डेनिश अखबार ज्यल्लेंड्स पोस्टन जिसमें कार्टून दिखाई दिया था, के पूरे पृष्ठ को पुनः बनाकर चित्र का पूला तैयार किया गया था, ताकि आप उनके मूल संदर्भ में देख सकें, तथा एक व्यापक ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य देते हुए पश्चिमी और इस्लामी दोनों कला में मुहम्मद के पहले के चित्रलेखन को भी प्रस्तुत किया गया था। प्रकाशन से कुछ पहले (ज्यत्ती क्लाउसेन के साथ साक्षात्कार),  येल विश्वविद्यालय और उसके प्रेस ने चित्रों को हटा लेने का फैसला लिया। तो अब पाठक द कार्टून देट शोक द वर्ल्ड नामक किताब में वह कार्टून नहीं देख पायेंगे ……. जिस कार्टून ने दुनिया को हिलाकर रख दिया था।

एक बयान में, प्रकाशक ने उद्धृत किया है कि ष्खुफिया, राष्ट्रीय सुरक्षा, कानून प्रवर्तन, और कूटनीतिक क्षेत्रों  में विशेषज्ञ, साथ-साथ इस्लामी अध्ययन और मध्य पूर्वी अध्ययन में अग्रणी विद्वानोंष्, जिनका जाहिर तौर पर मानना है कि कार्टून के पुनर्प्रकाशन द्वारा प्रेस हिंसा के गंभीर खतरे को बढ़ावा देगी। येल यूनिवर्सिटी प्रेस के निदेशक जॉन दोनाटिच ने कहा, उन्होंने विवाद को कभी नहीं टाला, ष्लेकिन जब उसके और मेरे हाथों में खून के बीच बात आयी, तो वहाँ कोई सवाल ही नहीं था।ष्

यह तर्क केवल संभ्रमित ही नहीं है, यह पूरी तरह से वापस सामने लाने की बात है। यह येल यूनिवर्सिटी प्रेस नहीं है जोकि हिंसा ष्भड़काष् रही होगी, लेकिन वे जो (हो सकता है) इसके पूरी तरह से उचित कार्य के जवाब में हिंसा की धमकी देंगे। यह दोनाटिच नहीं है, हिंसक कार्रवाई की स्थिति में, जिनके ष्अपने, हाथ पर खूनष् होगा, लेकिन उनके जो हिंसा को बढ़ावा देते हैं। शिकार अपराधी नहीं है। यदि एक महान विश्वविद्यालय प्रेस एक विद्वत्तापूर्ण अध्ययन में ऐसी सामग्री को प्रकाशित करने के लिए तैयार नहीं है ख्पृ. 5 भी देखें,,  फिर यह हिंसक धमकी की विजय है। अफसोस, ऐसे कई अधिक उदाहरण हैं, मीडिया, कला और दुनिया में अधिकांश मुक्त देशों में से कुछ के स्थानीय समुदायों में – उल्लेख करने की जरूरत नहीं, कम मुक्त और गुलाम में भी। ख्सपदोण् ब्ै.व्न्च् प्दकपं,

1882 का अंग्रेजी कानून का एक मामला भ्रम की स्थिति को स्पष्ट करती है। मोर्चे के साथ आगे बढ़ने के कारण पुलिस द्वारा एक मुक्ति सेना समूह को गिरफ्तार किया गया था जो पहले भी कई बार, एक दूसरे समूह, महाप्रतापी नाम कंकाल सेना द्वारा हिंसक रूप से रोका गया था। अंग्रेजी अदालत आयोजित की गयी कि पुलिस कंकाल सेना को स्र्द्ध करें जो हिंसक धमकी दे रहे थे न कि मुक्ति सेना जो उनकी वस्तु थी। यह निर्णय हमारे अपने समय में हर महाद्वीप के लिए सामान्यीकृत किया जा सकता है: अपनी मुक्ति सेना को मत रोकें, कंकाल सेनाओं को रोकें!

साहस और एकजुटता

हिंसक धमकी का विरोध करने के लिए कानून की पूर्ण कठोरता की आवश्यकता है। पुलिस को खतरे से जूझ रहे लोगों की रक्षा करने की आवश्यकता है, बजाय उन लोगों को चुप रहने के लिए कहने की। असाधारण व्यक्तियों के साहस की भी जरूरत है जो जोखिम में पड़ कर और स्वतंत्र अभिव्यक्ति के लिए कभी-कभी अपना जीवन अपर्ण कर देते हैं जैसे कि रूसी पत्रकार अन्ना पोलिटकोव्सकाया, पंजाब के राज्यपाल, सलमान तासीर, तुर्की-अर्मेनियाई पत्रकार हर्तं डिंक और ब्राजील के पर्यावरण कार्यकर्ता चिको मेंडेस। हम उन सभी लोगों को सूचीबद्ध नहीं कर सकते, लेकिन कृपया नामों को यहाँ जोड़ें, इस विवरण के साथ, कि आपको क्यों लगता है कि वे इस सम्मान के पद के योग्य हैं।

यद्यपि यह बहादुर व्यक्ति अपने दम पर ऐसा नहीं कर सकते हैं, इससे कहीं अधिक कोई भी राज्य अपने दम पर कर सकता हैं। तीसरा महत्वपूर्ण तत्व समाजों और समुदायों की एकता है। जितने अधिक लोगों द्वारा डरने के बोझ को साझा किया जाएगा, बोझ उतना छोटा हो जाएगा। जब एक आदमी, खालिद अल-जोहानी, सऊदी अरब में अपने मन की बात कहने के लिए अकेले खड़ा हो गया, तो उसे जेल में फैंक दिया गया । जब हजारों की संख्या में लोग काहिरा के तहरीर चैक पर एक साथ खड़े हुए थे, वह हुस्ने मुबारक, हिंसा के भड़काने वाला था, जिसे गिराया गया था।

इस तरह की एकजुटता जो अपने विचारों को मुक्त रूप से व्यक्त करती है, को समझौते की आवश्यकता नहीं है।  चूंकि असंतुष्ट में अक्सर मजबूत, परस्पर असंगत विचार देखा गया है, उन सभी के साथ सहमत होना तार्किक रूप से असंभव है। आप नहीं हो सकते, उदाहरण के लिए, दो महान सोवियत-विरोधी असंतुष्टों, अलेक्जेंडर सोलजेनितसिन और आंद्रेई सखारोव द्वारा व्यक्त रूस के भविष्य के लिए दृष्टि के साथ समान रूप से सहमत नहीं हो सकते, चूंकि वे एक दूसरे के साथ मौलिक रूप से असहमत हैं, लेकिन आप उन दोनों के साथ बराबर की एकजुटता में खड़े हो सकते हैं। वॉल्टेअर द्वारा कहा गया एक प्रसिद्ध वाक्य: ष्मैं आपकी बात से असहमत हूं, लेकिन  मैं आपके बोलने के अधिकार की मरते दम तक रक्षा करूंगा।“ वास्तव में वॉल्टेअर ने ऐसा कभी नहीं कहा था कि – यह लौकिक लाइन 20 वीं सदी के प्रारंभिक काल के एक जीवनी लेखक द्वारा गढ़ा गया था – लेकिन उसकी मनगढ़ंत टिप्पणी की भावना बिल्कुल सही है। हमें आज इन भावनाओं की पहले से कहीं अधिक जरूरत है।

हालांकि मामले से मामले, संदर्भ से संदर्भ, में व्याख्या की गुंजाइश है, यह हमारे सरलतम सिद्धांतों में से एक है। यह व्यवहार में लाने के लिए सबसे कठिन भी है। आपको इसका अनुसरण करने के कारण मार डाला जा सकता है।


Comments (10)

Google अनुवाद द्वारा स्वचालित मशीन अनुवाद प्रदान किया जाता हैं. यह आपको बताता है की योगदानकर्ता क्या कहना चाहता हैं, लेकिन इसका एक सटीक, सूक्ष्म अनुवाद की तरह भरोसा न करें.

  1. Hello All,
    I don’t know a great deal about all this and I’m sort of rushing through with a speed read and a quick reply. I think there are different varieties of violence, and sometimes a mixture of those varieties. I am of the strong belief that some people are inherently more violent than others, for medical reasons. Their childhood can be a big part of things. What I would call social leisure violence, such as football hooliganism, is a particular type that has spread out with the advance of media technology. War is another type of violence which is state organised, which tends to be re labeled and glorified as much as possible. Where government are involved, there many fine speeches made and many new words for violence used. Guantánamo Bay for example was an act of pure highly organised violence and false information that inhibited free speech. This together with the tenure of President Trump has set new values; or the lack of them. The global population has always been about the have and have not. Technology has taken us a long way, but greed and violence will increase across the world. Drugs and alcohol are certainly a major factor in the Streets of the UK where I live and no doubt across much of the world.

  2. “Many states, mainly for political reasons, and companies, mainly for commercial ones, have already eroded the original dream.”
    When dreaming, we are prepared to accept the most preposterous and nonsensical of ‘experiences’ as reality. Possibly because, until we wake, there is nothing against which to compare the encounter occurring inside an hermetically sealed enclosure. Similarly the interweb has, at the very minimum, proffered an alternate. One that although not necessarily without error, might at least indicate when it is being interfered with. Since where contrast should be found, there will only be uniformity of opinion.

    “If you find a site is blocked”
    it is a sure and certain sign that an ‘understanding’ is being artificially protected and maintained. Because unlike self supporting truth, it cannot stand up to even elementary enquiry? Such as: Please share with the rest of us, that infallible procedure you utilised to confirm your elected ideology’s validity. That we might embrace that evaluation peacefully, without the need for duress.

    “they may imprison people for exchanging information or speaking their minds.”
    Given that their ‘comprehension’ constitutes a perfect representation of reality. Surely allowing others to test it, and thus affirm that actuality, would be the ideal means for disseminating it around the planet. Anything else would be an open admission of doubt, or downright certainty concerning its lack of legitimacy.

    “Western democratic governments denounce these practices.”
    Yet refuse to submit their own ideologies to intimate examination? Which may explain, why those they are in conflict with cannot see a reason they should offer their notions up for objective evaluation either.

    “Google itself has enormous potential power to limit or distort free speech.”
    But also an Achilles’ heel, in the form of a vulnerability to mass boycott?

    “we can lobby our governments to change their laws”
    Some say that if voting had any effect it would be prevented. Might they be drawing that conclusion from examples such as ‘EU referendums’?

    What we appear to be attempting, is analogous to collectively assembling a jigsaw puzzle. Which might prove easier, were we to first identify and agree on the scene we are jointly endeavouring to recreate.

  3. The internet is an amazing innovation with no precedent and any limitations upon it would be a shame. To limit it slightly would be to set in action a cascade of fetters that would shatter everything the Internet could have been.

  4. If we think of what the idea of the internet was in the beginning, the vastest storage of information shared among the whole world, of course it is normal to assume that it would become a vastest opportunity for innumerate crimes. But the basic idea, the true meaning of the whole invention is so valuable and must be absolutely preserved.
    Between the concept of abuse and freedom of speech there’s sometimes a very thin line, but it is always more important to say it all than to oppress ideas.
    Liberty that has been given to some of the big, like Google, and their “privacy respect” is always questionable, like it happened these days in GB, with admitting that Google car has been collecting (and selling) more info than actually needed for “filming the streets”.
    Any clerk with access to information, can always be willing to sell them for a good offer (remember the Swiss bank account holders’ information scandal…). It is just something that can not be stopped. But it must be fought and punished.
    We all deserve to see/read/hear everything that might (or even that might not) interest us, and judge ourselves upon it. Let’s try to keep it that way.

  5. I share the importance of preventing the abuse of the content , however like in the comment above the dilemma of what should be considered as an abuse and who should define it is a big deal. And I think there is division in term of the priorities around that world. In the developed countries where there is a reasonable freedom of speech the abuse from the private side is more of an issue than in those countries where there is a constant state repression of the freedom of expression online. Moreover, this type of control does not guarantee protection of the other forms of abuse like child pornography. Thus I believe we the netizens should aim for liberating the online space to allow as much freedom of opinion expression as possible, even if it is at the cost of the abuse.

    • I agree with you that we have to consider different countries and their cultures. It is very hard to generalise the principles, because it may be that some parts of the world have a completely different view than other parts. So it is quite a challenge to agree on ten principles globally and it is also interesting. I also agree that we have to try to have media which are as open as possible, but I disagree with you that it is even at the cost of the abuse. We have to differentiate between the freedom of speech and abuse. Therefore we have to define principles globally in order to be able decide globally whether this “speech” is accetable or an abuse.

      Ich stimme Dir zu, dass wir verschiedene Länder und deren Kulturen berücksichtigen müssen. Es ist sehr schwer, die Prinzipien zu verallgemeinern, weil es sein kann, dass einige Teile der Welt eine ganz andere Meinung als andere Teile haben. So ist es durchaus eine Herausforderung, auf zehn Prinzipien global zustimmen und es ist auch interessant. Ich stimme auch zu, dass wir versuchen, die Medien so offen wie möglich halten müssen, aber ich stimme Dir nicht zu, dass es auch um den Preis des Missbrauchs ist. Wir müssen zwischen der Freiheit der Rede und Missbrauch unterscheiden. Deshalb müssen wir Prinzipien global definieren, um in der Lage zu sein zu entscheiden, ob diese global “Rede” annehmbare oder ein Missbrauch ist.

  6. The question of legitimacy is indeed very tricky.
    Public powers should indeed have the power to ‘legitimately’ restrict certain information. Taking an extremely libertarian approach claiming that all information should be ‘free’ is far from the pragmatic reality.
    I would even argue that as the question of legitimacy is such a delicate question that it is virtually impossible to define it in a general principle. When using a phrase like ‘for the greater good of the public’ to define the legitimacy of restricted information, executive powers might however be prone to exploit this principle.

  7. In Italy, two days ago, a lawyer denounced the President of the Republic, the Head of Government, all Ministers and all the Members for:

    – Attack on the integrity, independence and unity of the State;
    – Subversive associations;
    – Attack on the Constitution of the State;
    – Usurpation of political power;
    – Attack on the constitutional bodies;
    – Attack on the political rights of citizens;
    – Political conspiracy by agreement;
    – Political conspiracy by association;

    but … only one independent newspaper broke the news!
    Must be spoken.

  8. I’m here to tell the denied freedom of the press in Italy. This is a real problem.
    The censorship has reached unbearable levels! After the Treaty of Lisbon and the approval of the ACTA treaty, by the European Union, the only resource we have left to procure a real informaizoni is the net…but it also wants to censor the web!
    The project began long ago and came to the public through the bills SOPA and PIPA at the U.S. Congress. In Italy two politicians have already tried to censor the web through the fight pro-copyright.
    It’s necessary that we speak.

    I await the debate, thank you

    Bobo

  9. A quick glance through raises a couple of issues for WJR …

    This explanation appears a particularly net-centric view for a principle that includes “all other forms of communication” ?

    And, why the overly complicated language regarding corruption – “illegitimate encroachments” – why not just corruption. In seeking to define, a principle should not be limited by complexity.

अपनी भाषा में टिप्पणी दीजिये

क्या आप इस सिद्धांत से सहमत हैं?

हाँ नहीं


'वाक्-स्वतंत्रता पर चर्चा' ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के सेंट एंटनी कॉलेज में स्वतंत्रता के अध्ययन पर आधारित दह्रेंदोर्फ़ कार्यक्रम के अंतर्गत एक अनुसन्धान परियोजना है www.freespeechdebate.com

ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय