लेखक के हिसाब से फ़िल्टर करें 'ENGELHART Katie' who has authored 8 Posts

पेशाब मसीह

1987 में, न्यूयॉर्क स्थित कलाकार एन्ड्रेस सेर्रानो अपने ही मूत्र को एक जार में रख उसमें एक प्लास्टिक का ईद्भास डूबोई और तस्वीर खींच ली। परिणामस्वरूप कार्य – पूर्ण शीर्षक : विसर्जन (मूत्र मसीह) – 1989 में मामूली प्रशंसा के साथ प्रदर्शित किया गया था, और इसने समकालीन कला के दक्षिणपूर्वी केंद्र का “दृश्य कला में पुरस्कार” जीता। सेर्रानो ने तस्वीर को धर्म के व्यावसायीकरण पर एक टिप्पणी के रूप वर्णन किया था।

What's missing?

Is there a vital area we have not addressed? A principle 11? An illuminating case study? Read other people’s suggestions and add your own here. Or start the debate in your own language.

भाग लें