श्रेणी के हिसाब से फ़िल्टर करें 'Law' containing 289 Posts

चार्ली हैब्डो हत्याकांड के संधर्भ में आर्थर एसरफ अल्जीरिया में फ्रांसीसी उपनिवेशकीय दोगलेपन के इतिहास का विश्लेषण करते हैं।

चार्ली हैब्डो हत्याकांड के संधर्भ में आर्थर एसरफ अल्जीरिया में फ्रांसीसी उपनिवेशकीय दोगलेपन के इतिहास का विश्लेषण करते हैं।

साइबर बदमाशी की वजह से आत्महत्या हुई

10 अक्टूबर 2012 को कनाडा की लड़की अमांडा टोड ने साइबर बदमाशी और उत्पीड़न के वर्षों के बाद आत्महत्या कर ली। जूडिथ ब्रुह्न एक चौंकाने वाले मामले की बारे में बताती है।

Wang Xiaoning

चीन में याहू, मुक्त भाषण और अनामिकता

याहू के द्वारा चीनी अधिकारियों को व्यक्तिगत जानकारी देने के बाद, जिसके द्वारा चीनी अधिकारीयों ने वांग क्सिओंइंग की पहचान की, 2002 में वांग क्सिओंइंग को 10 साल के लिए जेल भेजा गया था। जूडिथ ब्रुह्न परस्पर-विरोधी कानूनों और नैतिक उम्मीदों के एक मामले की जांच करती है।

Brazilian journalists

क्या पत्रकारों के पास डिप्लोमा होना चाहिए ?

ब्राजील के सुप्रीम कोर्ट ने एक कानून को फिर से शुरू किया जो कहता है कि पत्रकारों को पत्रकारिता के क्षेत्र में एक विश्वविद्यालय की डिग्री की आवश्यकता है। फेलिप कोर्रेया लिखते है कि एक वर्तमान में चर्चा किया जाने वाला संविधान में संशोधन देश के मीडिया को और सीमित कर सकता है।

नीदरलैंडस ने यूरोप का पहला नेट निष्पक्षता कानून पास किया

ग्राहम रेनॉल्ड्स लिखते है कि नीदरलैंडस के सीनेट द्वारा जो संशोधनों को मंजूरी दी गयी है वे इंटरनेट सेवा प्रबंधको की ब्लॉक या इंटरनेट पर अनुप्रयोगों और सेवाओं को धीमा करने की क्षमता को सीमित करते है।

फ्रांस का अर्मेनियाई नरसंहार का कानून

क्लेमेंटाइन डे मोंत्जोये लिखती है कि जनवरी 2012 में फ्रेंच सीनेट ने के एक कानून को मंजूरी दे दी जो किसी भी राज्य द्वारा मान्यता प्राप्त नरसंहार के इनकार को गैर-कानूनी घोषित करता है।

समलैंगिकता के खिलाफ धर्मोपदेशक

अक्तूबर 2001 में हैरी हैमंड नामक एक इवैंजेलिकल ईसाई धर्मोपदेशक ने एक पोस्टर आयोजित किया जिस पर कहावत थी “बंद करो अनैतिकता, बंद करो समलैंगिकता, बंद करो समलैंगिकता।” जब हैमंड ने रोकने से इनकार कर दिया, एक पुलिसकर्मी ने उसे गिरफ्तार कर लिया। टिमोथी गर्तोन ऐश इस शिक्षाप्रद मामले पर चर्चा करते है।

भारत की अश्लील कार्टून स्टार

भारतीय अधिकारियों का सविता भाभी, एक ऑनलाइन कॉमिक पट्टी जिस में एक स्वच्छंद संभोगी गृहिणी, जिसे सेक्स की अतिलोभी भूख है, का चित्रण किया गया है, को प्रतिबंध कर देने के फैसले की प्रेस में आलोचना की गयी। मरयम ओमिदी विचार करती है कि क्या यह सही फैसला था।

What's missing?

Is there a vital area we have not addressed? A principle 11? An illuminating case study? Read other people’s suggestions and add your own here. Or start the debate in your own language.

भाग लें